Manya surve biography in hindi

 Manya surve biography in hindi

Hello, friends…, आपका  filmywapcity.com पर बहुत बहुत स्वागत है। इसी तरह से मेरे वेबसाइट को डेली विजिट करते रहिए। आज की इस पोस्ट में Manya surve biography in hindi के बारे में जानेेंगे

 

Born
Manohar Arjun Surve

8 August 1944

Died11 January 1982 (aged 37)
Cause of deathpolice encounter
Alma materKirti College
Criminal chargemurder, looting, bomb blast, trafficking, drug dealing

Manya surve biography in hindi

 

Manya Surve biography in hindi
Manya Surve biography in hindi

दोस्तों 2013 में आई एक फिल्म शूटआउट अट वडाला मन्या सुर्वे की जिंदगी पर आधारित थी जिसमें जॉन इब्राहिम ने मन्या सुर्वे का किरदार निभाया था। दोस्तो मन्या सुर्वे का जन्म 1944 में महाराष्ट्र के रत्नागिरी कोकण क्षेत्र के रामपुर गांव में हुआ था। 1952 में मान्य अपनी मां और बड़े पिता किशन मुंबई में रहने के लिए आया था। मुंबई आने के बाद कई सालों तक वह लोअर परेल की चौल में रहने लगा

मन्या कीर्ति कॉलेज से ग्रेजुएट है। उसने एक गैंग का निर्माण किया था। उस समय मान्या सुर्वे की।  मुख्य रूप से सुमेश देसाई भार्गव दादा के इस गैंग ने उस समय के प्रसिद्ध पठान डॉन को भी पूरी तरह भयभीत में कर दिया था। जो पिछले दो दशकों से मुंबई अंडरवर्ल्ड पर राज कर रहा था। लेकिन पठान ने भी अपने विरोधी गैंग केसर ग्रुप को पराजित करने के लिए मन्या सुर्वे की सहायता ली थी

RELEASED POST  :: jaggi vasudev biography in hindi 

स्कैन का नेतृत्व दाऊद इब्राहिम का बड़ा भाई समीर कर रहा था मन्या की सफलता की यही सब से सुलझा हुआ रास्ता की

इस समय शहर की सबसे मशहूर गैंग उसकी सहायता लेने कि उसके पास आते थे ऐसा करते हुए वह दूसरों को खत्म कर दिया करता था। याहा मुंबई में उस समय का पढ़ा लिखा पहला हिंदू गैंगस्टर था

 जिसका दादर से आगरा बाजार तक सम्मान किया जाता था। इस समय तक उसने अपने गैंग में और कई भरोसेमंद साथियों को ऐड कर लिया था। जैसे शेख मुनीर, विष्णु पाटील, और उदय व्हिस्की, गैंग में शामिल हो चुके थे। मन्या सुर्वे ने ने सन 1969 में दांदेकर का मर्डर किया और उम्र कैद की सजा पाकर जेल चला गया पूणे की जेल में मनीया का दबाव बढ़ने लगा और वह पहले से ज्यादा खूंखार बन गया था जेल में दूसरे गैंग के बदमाशों को पीटता था। 

इसके बाद उसे रत्नागिरी जेल में ट्रांसफर कर दिया गया लेकिन वहां उसे भूख हड़ताल कर दी। तबीयत बिगड़ने पर उसे हॉस्पिटल ले जाया गया 

जहां 1479 को पुलिस को चकमा देकर मन्या फरार हो गया इसके बाद मुंबई आया और फिर नए सिरे से शुरुआत की। कार चोरी की और गाड़ी का उपयोग कंपनी की डकैती के लिए किया गया था। 15 अप्रैल को उन्होंने सामूहिक रूप से हमला किया और उकने दुश्मन अजीत को मार दिया। जेल से निकलने के बाद मन्याने एक नया प्लॉट ले लिया था।  और फिर सरकारी मिल्क स्कीम की बोली के पैसों को लूटा और मुंबई अंडरवर्ल्ड मन्या सुर्वे द्वारा की गई डकैतीयो मे केनरा बैंक डकैती भी शामिल है।

लेकिन धीरे-धीरे मान्य सुर्वे की आतंकी गतिविधियां बढ़ने लगी उसी समय मुंबई पुलिस ने भी क्रिमिनल गतिविधियां करने वाले लोगों का तमाशा देखना बंद कर दिया था और अब वे सीधे एनकाउंटर किया करते थे उसी समय स्पेक्टर की भागवत राजाराम भटनी मान्या सर्वे के केस को अपने हाथ में लिया और माननीय सर्वे के खिलाफ ऑपरेशन की शुरुआत कर दी।

मुनी को गिरफ्तार कर लिया इसके कुछ दिनों बाद ही पुलिस ने गोरेगांव दयानंद और परशुराम काटकर को भी गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद अपनी गिरफ्तारी से घबराकर मान्य 19 सोमवार 1981 को भिंडी चला गया था। और जब पुलिस ने मान्या सर्वे के अपार्टमेंट की तलाशी ली तो उसे वह देश में बने अवैध हथियार ग्रेनेड और गोला-बारूद मिले।

1982 में महाराष्ट्र पुलिस द्वारा किए गए एनकाउंटर में मान्या सुर्वे की मौत हो गई कहां जाता है कि दाऊद इब्राहिम ने ही मुंबई पुलिस को मान्य सुर्वे को मारने की टिप दे रखी थी और उसी ने की लोकेशन की जानकारी पुलिस को दी थी दोस्तों तो कुछ ऐसी ही मान्य सुर्वे की जाता अगर biography अच्छी लगी हो तो कमेंट जरूर करें धन्यवाद

THANKS FOR VISITING MY SITE (Manya surve biography in hindi)

1 thought on “Manya surve biography in hindi”

Leave a Comment

error: Content is protected !!