Sadhguru Jaggi Vasudev Biography in hindi

Jaggi Vasudev Biography in hindi

 

Jaggi Vasudev Biography in hindi
Jaggi Vasudev biography in hindi

 

हम बात करने वाले हैं एक योगी सद्गुरु जग्गी वासुदेव जी के बारे में जिनको सदगुरु के नाम से भी जाना जाता है जो ईशा फाउंडेशन नामक लाभ रहित मानव सेवी संस्थान के संस्थापक भी हैं ईशा फाउंडेशन भारत सहित संयुक्त राज्य अमेरिका इंग्लैंड लेना और सिंगापुर और ऑस्ट्रेलिया में योग कार्यक्रम सिखाता है साथ ही साथ कई सामाजिक और सामुदायिक विकास योजनाओं पर भी काम करता है

Jaggi Vasudev Biography in hindi

Jaggi Vasudev Biography in hindi
Jaggi Vasudev Biography in hindi

 

इसे राष्ट्रीय आर्थिक और सामाजिक परिषद ने विशेष सलाहकार की पदवी प्राप्त है सद्गुरु ने आठ भाषाओं में 100 से अधिक पुस्तकों की रचना भी की है अगर हम इनके जन्म के बारे में बात करें तो सद्गुरु  Jaggi Vasudev जी का जन्म 5 सितंबर 1957 को कर्नाटक राज्य की मैसूर धार में हुआ

 उनके पिताजी एक डॉक्टर थे बालक जगी को कुदरत ने खूब लगाओ था अक्सर ऐसा होता था कि वह कुछ दिनों के लिए जंगल में गायब हो जाते थे जहां वे पेड़ ऊंची डाल पर बैठकर हवाओं का आनंद लेते और ध्यान में चले जाते थे जब घर लौटे तो उनकी झोली साँपो भरी होती थी जिन को पकड़ने में उन्हें महारत हासिल है कि 11 वर्ष की उम्र में जगी वासुदेव जी ने योग का अभ्यास करना शुरू किया

 

योग शिक्षक श्री राघवेंद्र राव जी हरि स्वामी के नाम से जाना जाता है मैसूर विश्वविद्यालय से उन्होंने अंग्रेजी भाषा में स्नातक की उपाधि प्राप्त की है

अगर हमें अनुभव के बारे में बात करें तो 25 वर्ष की उम्र में अनुभूति हुई जिनके जीवन की दिशा को ही बदल दिया एक दोपहर जग्गी वासुदेव जी मैसूर में चामुंडी पहाड़ ऊपर चढ़े और इस स्थान पर बैठ गए तब उनकी आंखें पूरी खुली हुई थी अचानक यूं ही शरीर से परेशान बा हुआ उन्हें अपने शरीर में नहीं है बल्कि हर जगह फैल गए हैं चट्टानों में पेड़ों में पृथ्वी में हर जगह फैल गए हैं अगले कुछ दिनों में उन्हें

यह अनुभव कई बार हुआ और हर बार यह होने परमानंद की स्थिति में छोड़ जाता था इस घटना ने उनके जीवन शैली को पूरी तरह बदल दिया जग्गी वासुदेव ने उन अनुभवों को बांटने के लिए अपना पूरा जीवन समर्पित करने का फैसला किया

Sadhguru Jaggi Vasudev

Jaggi Vasudev Biography in hindi

ईशा फाउंडेशन की स्थापना और इस आयोग कार्यक्रमों की शुरुआत इसी उद्देश्य को लेकर की गई ताकि यह संभावना विश्व को अर्पित की जा सके ईशा फाउंडेशन की बात करें तो सर गुरुद्वारा स्थापित ईशा फाउंडेशन 100000 रहित मानव सेवा संस्थान है  जो लोगों की शारीरिक मानसिक और आंतरिक कुशलता के लिए समर्पित है

या 250000 से भी अधिक स्वयंसेवी संस्था द्वारा चलाया जाता है इसका मुख्यालय ईशा योग केंद्र कोयंबटूर में है ग्रीनहैंड्स परियोजना ईशा फाउंडेशन की पर्यावरण संबंधी प्रस्ताव है पूरे तमिलनाडु में लगभग 16 करोड ₹10 करना परियोजना का घोषित लक्ष्य है अब तक ग्रीनहैंड्स परियोजना के अंतर्गत तमिलनाडु और पुडुचेरी में 18 सौ से अधिक समुदायों में 2000000 से अधिक लोगों द्वारा 82 लाख पौधे के रूप आयोजन किया है

 

इस संगठन ने 17 अक्टूबर 2006 को तमिलनाडु के 27 जिलों में एक साथ 852000 पौधे रोक कर गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया था पर्यावरण सुरक्षा के लिए किए गए इसके महत्वपूर्ण कार्यों के लिए इसे वर्ष 2008 का इंदिरा गांधी पर्यावरण पुरस्कार दिया गया

Jaggi Vasudev Biography in hindi

वर्ष 2017 में अध्यात्म के लिए आपको पदम विभूषण से सम्मानित किया गया अभी ईशा फाउंडेशन द्वारा रैली फॉर रिवर नाम से नदियों के संरक्षण के लिए अभियान चलाए जा रहे हैं ईशा योग केंद्र के बारे में अगर हम बात करें तो ईशा योग केंद्र ईशा फाउंडेशन के संरक्षक के स्थापित है या वेलिंगिरी पर्वतों की तराई में 150 एकड़ की हरी-भरी भूमि पर स्थित है घने वनों से घिरा ईशा योग केंद्र नीलगिरी जीवमंडल का एक हिस्सा है

ज्ञान कर्म क्रिया और भक्ति को लोगों तक पहुंचाने के प्रति समर्पित है इसके परिसर में ध्यान लेंगे योग मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा की गई ध्यान लिंग योग मंदिर के बारे में अगर बात करें तो 1999 में सद्गुरु द्वारा प्रतिष्ठित ध्यान नहीं अपनी तरह का पहला लिंग है जिसकी प्रतिष्ठा पूरी हुई  विज्ञान का सार ध्यान नहीं ऊर्जा का स्रोत और अनूठा कार है 13 फीट 9 इंच की ऊंचाई वाला या ध्यान लिंग विश्व का सबसे बड़ा पारा आधारित जीवित लिंग है

Jaggi Vasudev Biography in hindi

यह किसी खास संप्रदाय या मत से संबंध नहीं रखता ना ही यहां पर किसी विधि-विधान प्रार्थना या पूजा की जरूरत होती है जो लोग ध्यान के अनुभव से वंचित रहे हैं विधि ध्यान लिंग मंदिर में सिर्फ कुछ मिनट तक मौन बैठकर ध्यान की गाड़ी अवस्था का अनुभव कर सकते हैं इसके प्रवेश द्वार पर सर्व धर्म है जिसमें हिंदू इस्लाम ईसाई जैन बौद्ध सिख ताऊ पारसी यहूदी और हिंदू धर्म के प्रतीक अंकित हैं या धार्मिक मतभेदों से ऊपर उठकर पूरी मानवता को आमंत्रित करता है

प्रशासन की अभी हम बात कर रहे थे सद्गुरु जग्गी वासुदेव जी के बारे में हम चाहेंगे कि आप कमेंट करके बताएं कि आपको आज इनके बारे में जानकर कैसा लगा

और हम चाहेंगे कि आप हमें यह भी बताएं कि हमारा यह नया शरीर जिसमें हम आपसे किसी संत के बारे में बात करते हैं हमारे यह नया शरीर शुरू करना को कैसा लगा और साथ ही साथ हमारे लिए तो सुझाव हो तो उसे भी कमरे में जरूर लिखें वीडियो पसंद आई हो तो लाइक करें और शेयर करें ताकि और लोग इसका लाभ उठा सकें हम फिर मिलते हैं कि नहीं 

 

2 thoughts on “Sadhguru Jaggi Vasudev Biography in hindi”

Leave a Comment

error: Content is protected !!